अनिल एकलव्य ⇔ Anil Eklavya

April 22, 2009

झगड़ा नको

चलो बहुत हो गया
कसाई और बकरे का झगड़ा
अब हाथ मिला लेते हैं
आज से हमारी-तुम्हारी दुश्मनी खत्म

आगे वही बढ़ते हैं
जो साथ मिल के चलते हैं
अब से हम-तुम भी साथ-साथ चलेंगे
मिल-जुल के सफ़र करेंगे

बहुत से हैं दुनिया में
जो झिक-झिक में वक़्त ज़ाया करते हैं
या फिर बड़ी-बड़ी बातें किया करते हैं
जहाँ भाई-चारे से काम चल सकता है
वहाँ बेकार की बहस में लगे रहते हैं

हमने भी यह ग़लती की अब तक
चलो आज से इसे सुधार लेते हैं
एक-दूसरे से कड़वी बातें नहीं कहेंगे
प्यार-मुहब्बत से ज़िंदगी भर रहेंगे

न तुम हमें काटो
न हम तुम्हें काटेंगे
ये एक-दूसरे को काटना खत्म
एक नये युग की शुरुआत करेंगे

दुनिया है और दुनिया में ज़िंदगी है
तो कटना-काटना तो होता ही रहेगा
पर अब मिल-जुल कर काटा करेंगे

कभी बकरा मिलेगा तो कभी कसाई मिलेगा
पर एकता की ताक़त के सामने कौन टिकेगा?

Leave a Comment »

No comments yet.

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: