अनिल एकलव्य ⇔ Anil Eklavya

September 21, 2011

सांस्कृतिक कार्यक्रम

पहला: मार साले को!
दूसरा: मार साले को!
तीसरी: मार साले को!

कोरस: मार साले को! मार साले को! मार साले को!

पहला: मर गया क्या?
दूसरा: लग तो मरा ही रहा है।
तीसरी: अभी पूरी तरह नहीं मरा।

कोरस: मार साले को! मार साले को! मार साले को!

पहला: अबे ये देख वीडियो तेरा।
दूसरा: दिखता नहीं इसमें तू मर रहा है?
तीसरी: नहीं मानेगा, और लगाओ इसके।

कोरस: और लगाओ इसके! और लगाओ इसके! और लगाओ इसके!

पहला: मान जा! रस तो तेरा सारा निकल गया है।
दूसरा: रस तो सारा कोरस को चला गया है।
तीसरी: अब बचा क्या है? अब क्या करेगा तू?

कोरस: अब क्या करेगा तू? अब क्या करेगा तू? अब क्या करेगा तू?

Leave a Comment »

No comments yet.

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: