अनिल एकलव्य ⇔ Anil Eklavya

January 28, 2009

देव-दास

हम तो पहले ही बता चुके थे तुम्हें

चाँदी के चम्मच की चम-चम
पारो के कंगन की खन-खन
चंद्रमुखी के पायल की छन-छन
पाने का नहीं है तुम में दम-खम

तुम तो देवदास भी नहीं हो
तुम देव-दास भी जो नहीं हो

देव तुम हो नहीं सकते
दास तुम बन नहीं सकते

हम तो पहले ही बता चुके थे तुम्हें

 

[2009]

Advertisements

Blog at WordPress.com.