अनिल एकलव्य ⇔ Anil Eklavya

January 23, 2009

चोर शोर मोर

चोर! चोर! चोर!
धर लिया
पकड़ लिया
फाँस लिया
अधम है घनघोर!

चोर! चोर! चोर!
ये कौन मचा रहा शोर
बहुत कर रहा बोर
यहाँ तो नाच रहा है
मोर! मोर! मोर!

हजार बार दोहराओ
लाख बार दोहराओ
यहाँ तो नाच रहा है
मोर! मोर! मोर!

चोर! चोर! चोर!
धर लिया
पकड़ लिया
फाँस लिया
अधम है घनघोर!

हजार बार दोहराओ
लाख बार दोहराओ
यहाँ तो नाच रहा है
मोर! मोर! मोर!

चोर! चोर! चोर!
फाँस लिया
अधम है घनघोर!
यहाँ तो नाच रहा है
मोर! मोर! मोर!

 

[2009]

Create a free website or blog at WordPress.com.