अनिल एकलव्य ⇔ Anil Eklavya

February 16, 2009

झूठ जीना

झूठ जीना
मुश्किल नहीं है
बस आदत डल जाने दो
कुछ साथी ढूंढ लो
और मोहर लगवा लो

 

[2009]

Create a free website or blog at WordPress.com.